सहारनपुर हिंसा के लिए योगी सरकार ज़िम्मेदार — मायावती

0
Bhim

लखनऊ — बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने सहारनपुर में लगातार जारी जातीय हिंसा के लिये प्रदेश की भाजपा सरकार को पूरी तरह से ज़िम्मेदार व दोषी ठहराया है। मायावती ने बुधवार को कहा कि भाजपा और आर०एस०एस० जैसे संगठन के जातिवादी तत्व सामाजिक भाईचारे को बिगाड़ने के लिये सरकारी मशीनरी का भी खुलकर दुरूपयोग कर रहे हैं।

सहारनपुर
घड़कोली गाँव में चंद्रशेखर आज़ाद जिसने भीम आर्मी की स्थापना की [सौजन्य: The Quint]
सहारनपुर के कल के अपने दौरे से लौटने के बाद मायावती ने कहा कि भाजपा व आर०एस०एस० के जातिवादी, शरारती व आपराधिक तत्वों ने पहले साम्प्रदायिकता का ज़हर घोल कर अपने स्वार्थ की राजनैतिक व चुनावी पूर्ति की और अब सत्ता में आने के बाद जातिवादी हिंसा पर उतारू हो गये हैं। उन्होंने कहा कि इसी का ही परिणाम है कि सहारनपुर में जातीय हिंसा व संघर्ष थम नहीं पा रहा है और शासन-प्रशासन की मिलीभगत से निर्दाष लोगों को हिंसा का शिकार बनाया जा रहा है और उनकी हत्यायें भी की जा रही हैं।

बसपा अध्यक्ष ने कहा कि कल शब्बीरपुर गांव के दौरे में उन्होंने लोगों से शान्ति व आपसी भाईचारे की अपील की थी, लेकिन उनके लौटने के बाद ज़िला प्रशासन की लापरवाही बल्कि मिलीभगत से भाजपा समर्थक लोगों ने दलितों आदि को रास्ते में रोक-रोक कर उन पर जानलेवा हमला किया जिसमें एक की जान चली गयी व कई अन्य की हालत गम्भीर है।

इस घटना की कड़ी निन्दा करते हुये मायावती ने पार्टी के चार वरिष्ठ पदाधिकारियों — राष्ट्रीय महासचिव सतीश चन्द्र मिश्र, प्रदेश अध्यक्ष राम अचल राजभर, विधानसभा में बसपा दल के नेता लालजी वर्मा एवं पार्टी के पूर्व वरिष्ठ मंत्री इन्द्रजीत सरोज — को अधिकृत किया है। यह प्रतिनिधिमण्डल आज शाम साढ़े 6 बजे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलेगा और दोषियों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई, पीड़ितों को उचित मुआवज़ा तथा घायलों की निःशुल्क बेहतर इलाज करवाने की मांग करेगा।

मायावती ने कहा कि उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद अन्य भाजपा-शासित राज्यों की तरह ही यहां भी अपराध नियंत्रण व कानून-व्यवस्था ज़बर्दस्त बदहाल हुई है तथा ‘भगवा ब्रिगेड’ को हर प्रकार की खुली छूट मिल गयी है, इसलिये लोगों को स्वयं ही काफी सावधान रहने की ज़रूरत है।