Categories
Elections

राफ़ाल पर राहुल क्षमा मांगने के बजाय दे रहे हैं गोलमोल जवाब

राहुल गांधी सुप्रीम कोर्ट को दिए जवाब में एक बिंदु पर ग़लती स्वीकार करते हैं और दूसरे बिंदु पर अवमानना ​​से इनकार करते हैं, अतः अदालत ने उन्हें एक और हलफ़नामा दायर करने का आदेश दिया है

नई दिल्ली — सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को एक और मौक़ा दिया अपने इस दावे के लिए मुआफी मांगने का कि देश के सर्वोच्च न्यायलय ने माना है कि ​​“चौकीदार चोर है”। राहुल की इस टिप्पणी के कारण भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने कांग्रेस अध्यक्ष के ख़िलाफ़ अदालत की अवमानना का मुआमला दायर किया जिसके पहले जवाब में राहुल क्षमा याचना की जगह गोल-मोल कुछ बोल गए थे जो स्पष्टतः खेद व्यक्त करने से भी कम था।

आज सर्वोच्च न्यायलय ने राहुल को एक और हलफनामा दायर करने को कहा जिसमें वो स्पष्टीकरण दें कि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बारे में अपनी निजी राय को अदालत का कथन क्यों बताया।

अदालत ने पिछली सुनवाई और आज की सुनवाई, दोनों के दौरान कहा कि राफ़ाल पर अदालत किसी नतीजे पर पहुंची ही नहीं है।

उधर क्षमा मांगने में राहुल की आनाकानी करने के बावजूद उनके वकील और कांग्रेस नेता सुप्रीम कोर्ट से निकल प्रेस से बात करते हुए कहा कि राहुल ने अपनी राय अदालत पर थोपने के लिए खेद व्यक्त किया है।

हालांकि गांधी ने अपने वकील के माध्यम से स्वीकार किया कि उन्होंने शीर्ष अदालत की टिप्पणी को गलत तरीके से पेश किया, मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ ने माना कि दायर हलफनामे में एक बिंदु पर कांग्रेस गलती स्वीकार कर रही है और एक बिंदु पर अवमानना ​​टिप्पणी करने से इनकार कर रही है।

पीठ ने कहा कि हमें हलफनामे में क्या कहना चाहते हैं यह समझने में बड़ी कठिनाई हो रही है। पीठ में जस्टिस एसके कौल और जस्टिस केएम जोसेफ भी शामिल हैं।

शीर्ष अदालत ने गांधी के वकील से कहा कि वह हलफ़नामे में वर्णित राजनीतिक रुख से चिंतित नहीं हैं।

गांधी ने कहा कि हलफ़नामे में “खेद” शब्द का इस्तेमाल उनके द्वारा ग़लत तरीके से पेश की गई टिप्पणी के लिए माफी मांगने जैसा है जो टिप्पणी शीर्ष अदालत ने कभी नहीं की थी।

गांधी के खिलाफ अवमानना ​​याचिका दायर करने वाली भाजपा सांसद मीनाक्षी लेखी ने कहा कि यह सर्वोच्च अदालत की अवमानना ​​है।

अदालत ने मुआमले को 6 मई को सुनवाई तक मुलतवी कर दिया।

आम चुनाव-सम्बंधित प्रमुख ख़बरों के लिए इस पृष्ठ पर पधारें।

Sirf News Network

By Sirf News Network

Ref: ABOUT US