Categories
India

नौसेना कुलभूषण जाधव परिवार के साथ — एडमिरल लांबा

नई दिल्ली — भारतीय नौसेना अपने सेवानिवृत्त अधिकारी कुलभूषण जाधव तथा उनके परिवार की हर संभव मदद करेगी। नौसेना प्रमुख एडमिरल सुनील लांबा ने कहा कि भारत सरकार और भारतीय नौसेना पाकिस्तान में मौत की सजा का सामना कर रहे जाधव के परिवार के साथ है और उसकी वापसी के हरसम्भव प्रयास सरकार द्वारा किये जा रहे हैं।

एडमिरल लांबा ने यहां संवाददाता सम्मेलन के दौरान गुरुवार को कहा, ‘हम कुलभूषण तथा उनके परिवार की जो भी जरूरत है उसे हर हाल में पूरा करेंगे। सरकार उनकी रिहाई के लिए हर संभव प्रयास कर रही है।’

भारत का दावा है कि पाकिस्तान में झूठे आरोप में भारतीय नागरिक जाधव को मौत की सजा सुनाई गई है. इस फ़ैसले के बाद भारत ने अंतर्राष्ट्रीय न्यायलय में अपील की। इस पर सुनवाई करते हुए अंतरराष्ट्रीय अदालत ने फैसला आने तक जाधव की फांसी पर रोक लगा दी है।

एडमिरल सुनील लांबा

 

कुलभूषण जाधव मामले में आज सुनवाई की अगली तारीख तय करेगा अंतर्राष्ट्रीय न्यायलय। भारत का प्रतिनिधित्व उसके ‘एजेंट’ करेंगे जो 18 मई को पिछली सार्वजनिक सुनवाई के दौरान भी पेश हुए थे। तब विदेश मंत्रालय में संयुक्त सचिव (पाकिस्तान डिवीजन के प्रमुख) दीपक मित्तल ने भारत का प्रतिनिधित्व किया था।

सूत्रों के अनुसार आईसीजे के अध्यक्ष द्वारा दोनों पक्षों से आगे की प्रक्रिया के बारे में चर्चा की जाएगी। इस मीटिंग में पाकिस्तान के अटॉर्नी जनरल सुनवाई के लिए एड-हॉक (अस्थाई) जजों की पोस्ट के लिए 3 नाम प्रपोज करेंगे। संयुक्त राष्ट्र की सर्वोच्च अदालत में पाकिस्तान के पूर्व मुख्य न्यायाधीश (सीजेपी) नसीरुल मुल्क व तस्सदुक हुसैन जिलानी तथा पूर्व महान्यायवादी मखदूम अली की तदर्थ न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति की सिफारिश की जाएगी।

हाल में ऐसी ख़बर भी आई है कि पाकिस्तान के सेवा निवृत्त लेफ्टेनंट कर्नल हबीब नेपाल से ग़ायब हो गए हैं और पाकिस्तानियों को संदेह है कि उन्हें भारत के जासूसों ने अगवाह किया है। परन्तु आज इस विषय पर बोलते हुए सरहदी इलाक़ों के राज्य मंत्री जनरल अब्दुल क़दीर बलोच ने पाकिस्तानी सेनेट को बताया कि केवल संदेह के आधार पर उनका देश इस मुआमले में अंतर्राष्ट्रीय न्यायलय के दरवाज़े नहीं खटखटा सकता।

Sirf News Network

By Sirf News Network

Ref: ABOUT US