Categories
India

भारतीय व जापानी प्रधानमंत्रियों की काशी यात्रा

वाराणसी — भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे शनिवार को भारत की सांस्कृतिक नगरी काशी आ रहे हैं। ऐसे में कार्यक्रम स्थल राजेन्द्र प्रसाद घाट पर होने वाली गंगा आरती के लिए विशेष तैयारी के अंतर्गत कार्यक्रम को और भव्य स्वरूप देने के लिए कार्यक्रम स्थल को कोलकाता के फूलों से सजाया जा रहा है।

वाराणसी में प्रधानमंत्री और जापान के प्रधानमंत्री को दिया जाएगा यह खास तोहफा
वाराणसी में प्रधानमंत्री और जापान के प्रधानमंत्री को दिया जाएगा यह खास तोह्फ़ा

सेना द्वारा तैयार विशेष मंच पर बैठकर पीएम मोदी जापान के पीएम के साथ दशाश्वमेध घाट पर गंगा आरती में शामिल होंगे।

54 वर्षों बाद कोई विदेशी प्रधानमंत्री देश की सांस्कृतिक राजधानी काशी आ रहा है। सभी विभाग अपने-अपने काम में लगे हुए हैं। नगर निगम सड़कों नालियों की सफाई करने, शहर के डिवाइडरों को रंगने और घाटों के सुंदरीकरण में लगा है। वहीं बिजली विभाग प्रधानमंत्री के मार्ग में पड़ने वाली जगहों पर मौजूद तारों के जाल को दुरुस्त करने में लगा हुआ है। पूरे शहर में 12,000 एलईडी लाइट लगाई गयी हैं, वहीँ बाबतपुर एयरपोर्ट से दशाश्वमेध घाट तक की सड़क नवीन स्वरूप में आलोकित हो उठी है, जगह-जगह स्वागत की विशेष तैयारियां हैं।

भारत और जापान के रिश्तों को मजबूत करने के लिए इंडो-जापान फ्रेंडशिप क्लब द्वारा रेत में विशेष कलाकृति
भारत और जापान के रिश्तों को मजबूत करने के लिए इंडो-जापान फ्रेंडशिप क्लब द्वारा रेत में विशेष कलाकृति

राजेन्द्र प्रसाद घाट पर गंगा आरती के पहले एसपीजी के वरिष्ठ अधिकारियों ने जापानी सुरक्षा एजेंसी के अधिकारियों के सामने गंगा पूजन किया; सूत्रों के अनुसार, गंगा पूजन के सभी विधि विधानों को जापान के वरिष्ठ अधिकारियों को दिखाया जाएगा ताकि उन्हें किसी भी तरह की शंका न रहे प्रधानमंत्री शिंज़ो अबे और नरेंद्र मोदी के काफिले में करीब 200 गाड़ियां रहेंगी, साथ ही पीएम मोदी और जापानी प्रधानमंत्री शिंज़ो अबे मर्सिडीज़ गाड़ियों (पूर्ण रूप से बुलेट प्रूफ) में रहेंगे। साथ ही बाबतपुर एयरपोर्ट से लेकर घाट तक इस काफिले में चल रही अन्य गाड़ियों में अत्याधुनिक सुरक्षा उपकरणों से लैस एसपीजी, सेना और जापानी कमांडो रहेंगे।

प्रधानमंत्री के कारवाँ की पूरी ज़िम्मेदारी सेना के ऊपर है
प्रधानमंत्री के कारवाँ की पूरी ज़िम्मेदारी सेना के ऊपर है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे के दौरे का प्रारंभिक प्रोटोकॉल: काशी में 4 घंटे 35 मिनट का समय व्यतीत करेंगे।

  • सायं 4:05: दिल्ली से विशेष विमान से लालबहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर आगमन
  • सायं 5:45 – 6:25: दशाश्वमेध घाट पर गंगा आरती में शामिल होंगे
  • सायं 7:00 – 8:00: होटल गेटवे ताज में सांस्कृतिक कार्यक्रम, प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी, जापान के प्रधानमंत्री को काशी के कारीगरों की कलाकृतियां भेंट करेंगे
  • रात्रि 8: 10: दोनों प्रधानमंत्री नदेसर कोठी से लालबहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के लिए प्रस्थान करेंगे
  • रात्रि 8:40: दोनों प्रधानमंत्री विशेष विमान द्वारा वापस दिल्ली चले जायेंगे

आइये नज़र डालते हैं इस विशेष दौरे के सन्दर्भ मे हुए कार्यक्रमों पर।

नमामि गंगे विशेष

बीएचयू और जापान फाउंडेशन के बीच शैक्षणिक समझौता
बीएचयू और जापान फाउंडेशन के बीच शैक्षणिक समझौता

माँ गंगा की सफाई के लिए मुंबई से मंगाई गई आधुनिक मशीन; माँ गंगा के किनारों को साफ़ करने का कार्य निरंतर जारी है. “पीएम के वाराणसी दौरे को देखते हुए इस मशीन का प्रयोग किया जा रहा है। इस मशीन के उपकरण आधुनिक है, जो पानी के ठोस कचरे को आसानी से साफ़ कर सकते हैं। यह मशीन गंगा तल पर तैरने वाले कचरे को निकालने के लिए वॉटर हार्वेस्टिंग का काम करेगी। यह मशीन एक बार में दो टन तक कचरा निकाल लेगी,” वॉटर क्लीन मशीन टेक्निकल डायरेक्टर सुनील बहल ने बताया।

जापानी प्रधानमंत्री के काशी आगमन से पूर्व इंडो-जापान फ्रेंडशिप क्लब का गठन हुआ। “हमें प्रसन्नता है कि जापान के प्रधानमंत्री को साथ लेकर भारत के पीएम नरेंद्र मोदी वाराणसी आ रहे हैं,” जापान के प्रतिनिधि आकियो सुजिमीतो ने कहा।

यहाँ इंडो-जापानी दावत का आयोजन किया गया है. “जापानी प्रधानमंत्री देवभूमि काशी आ रहे हैं, यह हमारे लिए ख़ुशी की बात है,” सु किमान ने कहा।

बीएचयू और जापान फाउंडेशन के बीच शैक्षणिक समझौता हुआ है. जापानी भाषा में शुरू होगा डिग्री कोर्स। इस समझौते के अंतर्गत जापान फाउंडेशन बीएचयू में जापानी भाषा पढ़ाने के लिए एक शिक्षक एवं उसकी सैलरी देगा।वहीं बीएचयू उस शिक्षक को एक क्लासरूम, चैम्बर और कैंपस में आवास देगा।

xs2
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे के दौरे से पूर्व जापानी वेशभूषा में सजी एक स्कूल की छात्रा

सुबह-ए-बनारस

भारत और जापान के सम्मिलित सांस्कृतिक कार्यक्रम में नृत्य का आयोजन हुआ।

दोनों प्रधानमंत्रियों के आगमन को लेकर समस्त जनमानस उल्लास से परिपूर्ण है। दशाश्वमेध घाट को दुल्हन की तरह सजाया जा रहा है।

गंगा नदी की सफाई निरंतर जारी हैं, एयरपोर्ट से घाट तक स्वागत की पूर्ण तैयारियां हैं। काशी में प्रत्येक नागरिक को इंतज़ार है भारतीय प्रधानमंत्री एवं जापानी प्रधानमंत्री के आगमन का।

index_28
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे के काशी दौरे की सफलता की कामना करते हुए हुआ महायज्ञ
Avatar

By Anupam Pandey

​​IT analyst with mentoring responsibilities at IEEE, an associate at CSI India

Leave a Reply